HomeUncategorizedGlaway Tata Multani Product Glaze Masala in Hindi

Glaway Tata Multani Product Glaze Masala in Hindi

Glaway  मसाले ही क्यों?

विषय सूची

 ●भारत का सबसे विश्वसनीय व्यापार ब्रांड है टाटा

●टाटा के सभी मसाले ध्यानपूर्वक हाथ से चुने जाते हैं ●इसकी गुणवत्ता और स्वाद बहुत ही उत्तम है

●हर मसाला अनब्रांडेड के अपेक्षा प्राकृतिक है
●सभी मसाले जैव सक्रिय ( बायो एक्टिव ) सामग्री से निर्मित होते हैं

Glaway Masala : धनिया पाउडर

●यह पाउडर वैज्ञानिक रूप से संसाधित है और धनिया की प्राकृतिक गुणों को बनाए रखने के लिए स्वछता पूर्वक तय किया गया है glaze me Paisa Kaise Milta Hai
●धनिये के  बीच को उत्पात तकनीक के इस्तेमाल से साफ किए और छोटे जाते हैं

Glaway Masala : लाल मिर्च पाउडर

●यह प्रीमियम गुणवत्ता वाली लाल मिर्च से बनाया गया है
●अत्यंत तेज स्वाद बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है

 Glaway Masala: हल्दी पाउडर

●टाटा संम्पन्न हल्दी पाउडर के हर थैले मैं कम से कम 3 % काक्यूँमिन होता है अपने समृद्ध पीले रंग और विभित्र आयुर्वेदिक गुण प्रदान करता है
● सामान्य हल्दी पाउडर में केवल 2_ 2.5% काक्यूमिन सामग्री होती है

 Glaway Masala : गरम मसाला

●उच्च गुणवत्ता से बना है
●मसालों के सभी तत्वों को सबसे अच्छे खेतों व बागानों से लगाया जाता है
●सामग्री
●धनिया, हल्दी, मिर्च, सौंफ, काली मिर्च, जीरा, नमक, अदरक पाउडर, सरसों, हरी मिर्च पाउडर, मेथी (पत्तियां )दालचीनी, धनिया (पत्तियां), लौग, ऑलस्पाइस, हींग, इलायची, सावित्री

 Glaway Masala : किचन किंग मसाला

●यह ताजा खुशबूदार मसालों  का एक दुर्लभ संयोजक है
●सब्जियों को स्वादिष्ट और हल्का बनाता है
●सामग्री
●धनिया, हल्दी, मिर्च, सौंफ, काली मिर्च, जीरा, नमक, अदरक पाउडर, सरसों, हरी मिर्च पाउडर, मेथी (पत्तियां )दालचीनी, धनिया (पत्तियां), लौग, ऑलस्पाइस, हींग, इलायची, सावित्री

Glaway टी गोल्ड 

Glaway टी गोल्ड
Glaway टी गोल्ड

टाटा ग्लोबल बेवरेजेस लिमिटेड भारत की बहुराष्ट्रीय मल्टी नेशनल कंपनी है जिसका मुख्यालय कोलकाता और पश्चिम बंगाल में है glaze all class name Hindi English यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता व चाय के वितरक और कॉफी की एक प्रमुख उत्पादन कंपनी है

● इसका बेहतर संतुलन ऐसे ताकतवर और सुगंधित रखता है जो सीटीसी ( Crushed – Teared- Curled )  किए 15 % लंबे पत्ते के साथ मिलकर निर्मित होता है 

●इसकी पैकेजिंग पूर्ण रूप से स्वच्छ एवं उच्च मान को से होकर गुजरती है

मुलतानी के ही उत्पाद क्यों ?

मुलतानी के ही उत्पाद क्यों
मुलतानी
मुलतानी फार्मा स्यूटिकल्स  लिमिटेड भारत में एक प्रमुख आयुवेवदक /
हर्बल, यूनानी, चिकित्सा उत्पादो की कंपनी है।
• पारंपरिरक और प्रौद्योगिकी का अद्वितीय मिश्रण है|
• कंपनी नए और प्रभावी उत्पादो को विकसित करने के आधुनिक
वैज्ञावनक पद्धतियो के साथ पुराने आयुर्वैदिक /  हर्बल ज्ञान का प्रभावी
ढंग से प्रयोग करती है।
• इस के सभी उत्पादो का  निर्माण वर्तमान पर्यावरण, स्वास्थ्य और सुरक्षा
कानून को ध्यान में रखते हुए किया गया है|

मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल

मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल
मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल

 

• अस्थमा : येएक सांस की बीमारी के रूप मेजाना जाता है।
• दुनिया के सबसे प्रदूषित 20 शहरो मेंसे 13 भारत में हैं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के वायु  प्रदूषण डेटाबेस के अनुसार, वदल्ली, पटना, ग्वावलयर और रायपुर की हवा में सबसे अवधक (पी. एम. Particulate Matter 2.5) छोटे से निलंबित कण पाए जाते हैं
जो हवा की दृश्यता को कम करते हैं और वायुमंडल के जरिए फेफड़ों मेंजा के हावन पहुंचाते हैं वजस से अस्थमा,  ब्रोकाइसिट, हृदय रोग, स्ट्रोक और अन्य बीमारिय पैदा  हो सकती हैं।
• डॉक्टर के अनुसार बढते प्रदूषण  के कारण बच्चो  में ये बीमारी ज्यादा हो रही है
• विश्व भर में 30 करोड़ लोग अस्थमा की बीमारी से पीडित हैं जिसमें 3 करोड़ लोग भारतीय

मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल

इस बीमारी को हम ठीक नही कर सकते लेकिन इससे बचाव किया जा सकता है
आम लक्षण:
• यह सामान्यतया अचानक शुरू होता है
• रात या अगले सुबह बहुत तेज़ हो जाता है
• ठंडी जगहो पर जाने से या व्यायाम करने से और भीषण गमी में भी यह बढ जाता है
• दवाओं के उपयोग से ठीक होता है, क्योकि इससे नलिकाएं खुलती हैं
• कई बार बलगम के साथ या बगैर खांसी के भी यह हो जाता है

मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल

कारण:
• जानवरो से(जानवरो की त्चा, बाल, पंख या रोयें से)
• दीमक (घरो में पाये जाते हैं) से
• तिलचट्टे से
• पेड़ और घास के पराग कण से
• धूलकण से
• सिगरेट का धुआं से
• वायु प्रदूषण से
• ठंडी हवा या मैसमी बदलाव से
• पेंट या रसोई की तीखी गंध से
• खाद्य पदाथों मसल्फाइट से भी अस्थमैटिक अटैक आ सकता है

मुलतानी अस्थमिन कैप्सूल

• यह अस्थमा और अन्य सांस की बीमाररयो के लिए रामबाण
दवा है
सामग्री
• सोमलता
• पुष्करमूल,
• रस वसन्दूर सौठ,
• यष्टिमधु,
• पिप्पली,
• मारीच,
• कंटकारी,
• भारंगी
सेवन : 1 से 2 केपसूल दिन में 3 से 4 बार या जैसा
चिकत्सक द्वारा निदेशित

मुलतानी ब्रेनटोन टेबलेट

मुलतानी ब्रेनटोन टेबलेट
मुलतानी ब्रेनटोन टेबलेट

 

• भारत देश  ब्रेन की बीमाररयो में दुनिया में दूसरे नंबर पर आता है
• भारत देश मे करीब 4 करोड़ लोग दिमाग से संबंवधित बिमारियों से ग्रसित हैं
• यह बीमारी मुख्यतः बड़ी उम्र के लोगो में ज्यादा पाई जाती है।
• यह बीमारी अक्सर अनिद्रा और नींद न पूरी होने के कारण होती है।
• भारत की आबादी का 4.5% – इस समय डिप्रेशन  (अवसाद ) से पीवड़त हैं, 3 करोड़ 80 लाख भारतीय चिंता और घबराहट से पीड़ित हैं।  इस प्रकार, वर्ल्ड  हेल्थ संगठन (world health organization) की रिपोट के मुताबिक
लगभग 7.5% भारतीय बड़े या मामूली मनोवैज्ञानिक विकारो से ग्रस्त हैं जिनके कारण विशेषज्ञ द्वारा जााँच कनाने आवश्यकता होती है।

Glaway ब्रेनटोन टेबलेट

• शुरुआत भूलने की बीमारी से शुरू होती है
• फिर दूसरी दिमागी परेशानियो की तरफ बढती है
• इसका रिस्क उम्र के साथ बढता है
जैसे की:
ज्ञान की कमी,एडिक्शन,हाइपरटेंशन, डाईबेटिस
• पोषक तत्वों की कमी भी दिमाग से संबंधित
बिमारियो का कारण बन सकती है

Glaway ब्रेनटोन टेबलेट

• इसको खाने से स्मरणशक्टि मजबूत होती है
सामग्री
• ब्राह्मी
• शंखपुष्पी
• अश्वगंधा
• यष्टिमधु,
• गुजबन
• जटामांसी
• वाच
• सर्पगंधा
• सेवन : 1 से 2 टेबलेट दिन में 2 बार या जैसा चिकत्सक द्वारा निर्देशित
Glaway Tata Multani Product

Glaway वहपनोक्स कै प्सूल

• विश्व स्वास्थ्य सांक्टख्यकी (World Health Statistics) के मुताबिक, 25.10% पुरुष और 22.60% महिलाएं जो की 25 साल से अधिक उम्र के हैं, भारत में हाइपरटेंशन से ग्रस्त हैं।
• दक्षिण-पूर्वी एशिया के “डाॅ पांडा” के अनुसार उच्च रक्चाप या हाइपरटेंशन हर साल लगभग 15 लाख लोगो को मारता है
• भारत देश मे तीन में से एक व्यक्टि को हाइ ब्लड प्रैशर की शिकायत है।
• कई बार ब्लड प्रैशर हाइ होने के बावजूद उनको पता नही  चलता।
• “उच्च रक्तचाप एक साइलेंट किलर है” glaze all in one PDF कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया (सीएसआई) के अध्यक्ष और प्रतिष्ठित हृदय रोग विशेषज्ञ एच.के. चोपड़ा ने आईएएनएस को बताया कि समस्याएाँ जैसे हृदय की समस्याएं, ब्रेन स्ट्रोक, गुर्दे का ख़राब होना, अनियंत्रित रक्तचाप के कारण उत्पन्न होते हैं

Glaway हिपनोक्स कैप्सूल

उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) के कारण:
• देर रात सोना,
• आलसी जीवनशैली,
• ज़्यादा वज़न
• स्माटड फोन पर ज्यादा वक़्त गुजारन

Glaway हिपनोक्स कैप्सूल

हाई ब्लड प्रैशर के दुस्प्रभाव
• हाई अटैक भी आ सकता है।
• ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है।
• ब्लड वेसेल भी कमज़ोर हो सकते हैं
• हाई फ़ेल भी हो सकता है।
• अंगो का काम करना भी बंद हो सकता है।
• अंधेपन के शिकार भी हो सकते हैं।
• मेमोरी लॉस भी हो सकती है

Glaway हिपनोक्स कैप्सूल

• यह उच्च रक्तचाप के लिए उपयोगी है
सामग्री
• सर्पगंधा
• अश्वगंधा
• खुरासानी
• जटामांसी
• ब्राह्मी
सेवन : 1 से 2 कैप्सुल रोज़ या जैसा चिकत्सक द्वारा निदेशिक

Glaway शूगरालू डीएम टेबलेट्स

मधुमेह:
• मधुमेह एक पुरानी बीमारी है जो या तो तब होती है जब
अग्र्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नही करता है या
जब शरीर इंसुलिन का उत्पादन प्रभावी रूप से नही कर
सकता है। इंसुलिन एक हामोन है जो रक्त शर्कल को
नियंत्रित करता है
• मधुमेह के कारण होने वाली जटिलताओं मेंषहृदय रोग, स्ट्रोक, गुर्दा की विफलता, दृष्टि  हानि और न्यूरोपैथी या
तंत्रिका क्षति शामिल होती है, जिससे फूट अलसर भी हो सकता है।
मधुमेह के 2 मुख्य प्रकार हैं:
• टाइप 1 डी.एम.
• टाइप 2 डी.एम.

Glaway शूगरालू डीएम टेबलेट्स

• वर्तमान में भारत में मधुमेह से ग्रसित लोगो की संख्या 7 करोड़ 20 लाख हैं, इस रोग के लिए भारत को विश्व की राजधानी कहा जाता है चीन के बाद यह दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी संख्या है।
• एक अनुमान के अनुसार, भारत में मधुमेह की जनसंख्या 2045 तक 13 करोड़ 40 लाख तक बढने की उम्मीद है।
• इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल ररिसचड (ICMR) द्वारा लिए गए अध्ययन के मुताबिक, 25 वर्ष से कम आयु के 63.9% युवा भारतीय युवक की टाइप 1 रायबिटीज हैं और 25.3% टाइप 2 रायबिटीज़ हैं।
• इंटरनेशनल रायबिटीज फेर्रेशन (IDF) द्वारा जारी 2015 मधुमेह एटलस के अनुसार 20-79 आयु वर्ग डके लगभग 9% लोगो में मधुमेह है
• एटीट्यूट ऑफ हेल्थ मेटिक्स & इवैल्यूएशन के आंकड़े बताते हैं कि वर्ष  2016 में भारत की सातवी सबसे ज़्यादा मृत्यु का कारणो में से एक कारण मधुमेह है

Glaway शूगरालू डीएम टेबलेट्स

अन्य देशो के विपरीत, जहां डायबिटीज वाले ज्यादातर लोग 60 वर्ष से अधिक उम्र के हैं, लेवकन भारत में40-59 वर्ष की आयु समूह में भी डायबिटीज पाई जाती है, जो आबादी की उत्पादकता को प्रभावित करती है।
Glaway Tata Multani Product

Glaway शूगरालू डीएम टेबलेट्स

• रक्त में शुगर के स्तर को नियमित करता है और
अत्यधिक प्यास, भूख, थकान और पेशाब को
नियंत्रित करने में मदद करता है
सामग्री
• अम्र
• करवेललका
• गुड़मारा
• जम्बू
• शुद्ध शिलाजीत
सेवन : 2 टेबलेट दिंन में तीन बार , खाना खाने से आधा घंटा
पहले या जैसा चिकत्सक द्वारा निदेशित हैं

Glaway मूलिव स्ट्रॉंग सीरप

• भोजन को पचाने और शरीर के विषैले पदार्थों को मुक्त करने के लिए लिवर सहायक है लीवर सम्बंधित रोगो में निम्नलिखित लक्षण शामिल:
• कमजोरी और थकान,
• वजन घटना,
• मतली,
• उल्टी, और
• त्वचा की पीले रंग की मलिनकिरण (पीलिया)।

Glaway मूलिव स्ट्रॉंग सीरप

• भारत देश में लीवर की बीमारी हर 5 मे से 1 व्यक्ति में पाई जाती है।
• विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक लीवर की बीमारी भारत में मृत्यु का दसवां सबसे आम कारण है।
• भारत देश में हर साल लीवर सिरोसिस के 10 लाख मरीज़ पाए जातेहैं
• नवीनतम WHO आंकड़ो  के मुताबिक भारत में लीवर रोगो  के कारण कुल मतृको संख्या 2 लाख 16 हज़ार तक पहुंच गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, भारत में 4 करोड़ लोग हेपेटाइटिस बी संक्रमित होते हैं और लगभग 60 लाख से 1 करोड़ 20 लाख लोग क्रिनिक हेपेटाइटिस सी से संक्रमित होते हैं

Glaway मूवलव स्ट्रॉंग सीरप

• लीवर से सम्बंधित सभी रोगो में उपयोग किया जाता है लीवर सम्भंदि सबसे ज्यादा देखे जाने वाले रोग
निम्नलिखित हैं:
• फैटी लीवर
• हेपेटाइटिस A
• हेपेटाइटिस B
• हेपेटाइटिस C
• लीवर सिरोसिस

Glaway मूवलव स्ट्रॉंग सीरप

• लीवर सम्बंधित सभी रोगो में उपयोगी है
सामग्री
• सोमलता
• पुष्करमूल,
• रस सिन्दूर सौंठ,
• यष्टिमधु,
• पिप्पली,
• मारीच,
• कंटकारी,
• भारंगी.
सेवन : बच्चे– 1 चम्मच
बड़े – 2 चम्मच दिन में दो बार या जैसा चिकत्सक द्वारा निर्देशित

Glaway रुमेड स्ट्रॉंग ऑइल

• गठिया और जोड़ों के दर्द के  लिए अति लाभकारी है
सामग्री
• महानारायण तेल
• खुरासानी अजवाइन
• धतूरा पत्र
जोड़ो के बाहरी हिस्से पर एक दिन में दो बार लगाएं या चिकत्सक द्वारा निर्देशित विधि अनुसार प्रयोग करें ।
Glaway Tata Multani Product

Glaway रुमेर् एसजी टेबलेट्स

• जकड़न, जोड़ो  में दर्द, जोड़ो में सूजन, मांसपेशियों की कमजोरी के लिए प्रभावी है।
सामग्री
• गुग्गुलु
• शुन्ठी
सेवन : 2 गोली दिन में दो बार हल्के गुनगुने पानी के साथ या चिकत्सक द्वारा
निदेशित विधि अनुसार प्रयोग करें ।

Glaway कूका कफ़ सीरप

सभी प्रकार की खााँसी के वलए
कोल्ड, गले और बंद नाक के लिए
सामग्री
 तुलसी
 वासका
 कुलंजन
 यवष्टिमधु
 वपप्पली
 सतपुदीने
सेवन : 6 साल तक- आधा चम्मच (2.5 मिलीमीटर), 6 से 12 साल: 1 चम्मच (5 मिली।) और 12 वर्ष से अधिक: सभी के लिए 2 चम्मच (10 मिलीमीटर) दिन में 3 बार। यदि खांसी बनी रहती है, तो अपने डाकटर से सलाह लें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular