HomeAvishkarGhadi ka avishkar kisne kiya | घड़ी का आविष्कार किसने किया

Ghadi ka avishkar kisne kiya | घड़ी का आविष्कार किसने किया

घड़ी का आविष्कार सबसे पहले किसने किया था दोस्तों आज का समय स्मार्ट वॉच का है जिनमें हम सब समय के साथ साथ बल्कि अपनी हेल्थ रिलेटेड ट्रैकिंग जैसे कि हार्ट बीट इंडिया कब पता भी लगा सकते हैं स्मार्ट वॉचेस किस शुरुआत कुछ सालों पहले की गई थी और यह लगातार एडवांस होते जा रहे हैं

Ghadi ka avishkar kisne kiya
Ghadi ka avishkar kisne kiya

लेकिन आज भी लोग हाथ पर सादा घड़ियां पहनना पसंद करते हैं कुछ लोग समय देखने के लिए केवल मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि हमेशा हाथ में या फिर जेब में रहता है

आज हमारे पास ना जाने कितने तरह के एडवांस घड़ियां और डिवाइस है जिनमें समय का पता लगाया जा सकता है लेकिन पहले ऐसा कोई डिवाइस नहीं था

आज के कुछ सदियों पहले तक समय का स्टेप पता लगाना इतना आसान नहीं हुआ करता था लेकिन कुछ लोग सूरज की छाया देखकर समय का पता लगाया करते थे तो कुछ लोगों तारों के माध्यम से समय का पता लगा लेते थे

राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित जंतर मंतर उस समय का पता लगाने के लिए उपयोग किया जाता है मोटर ग्रीस नेपाली से चलने वाली गाड़ियां हुआ करती थी

जिसमें पानी के गिरते समय के जरिए समय का पता लगाया जाता था इस प्रकार के यंत्र पानी गिरते स्तर के साथ घंटी बज जाती थी जिससे समय का पता लग जाता था

आज सभी के घर में घड़ियां होती है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इस आधुनिक घड़ियों की शुरुआत कहां से हुई और कब हुई

गर नहीं तो यह लेख पूरा पढ़िए इस लेख में हम आपको घड़ी का आविष्कार किसने किया घड़ी का आविष्कार कब हुआ और घड़ी के अविष्कारक का महत्व आर्टिकल में जानकारी देने वाले हैं

घड़ी क्या है

घड़ी एक यंत्र को कहा जाता है जी राइट समय बताता है घड़ियां कई प्रकार की होती हैं जैसे जल घड़ी धूप घड़ी इलेक्ट्रॉनिक घड़ी इत्यादि तरह की होती है लेकिन हम सभी लोग जिसे घड़ी का नाम से जानते हैं उसे Wrist Watch कहां जाता है

यह एक प्रकार का पोर्टेबल डिवाइस होता है जिसे संभालना बेहद आसान होता है इस प्रकार की घड़ी को हम अपने हाथ में पहनते हैं 

कुछ लोग पांडेट वाज को भी पसंद करते हैं जिसे टाकटवार कहते हैं वह मोबाइल फोन होता है और एक अलग प्रकार का वॉच घड़ी आता है जो हाथ में नहीं पहना जाता बल्कि जेब में रखा जाता है आज के कुछ सालों पहले लोगों की पसंद होते थे

उस समय के लोग के पैकेट वाज का अपना एक अलग ही महत्व देते थे इस प्रकार की घड़ियों को जेब में रखा जाता था जब समय देखना होता था उसे जेब से निकालकर और समय देखते थे

Wrist Watch एक प्रकार की छोटी घड़ी होती है जिसको चारों तरफ से एक पट्टा बधा होता है जो कपड़े लेदर या फिर मेटल होता है अगर यह मेटल का होता है इसमें मेटल की कड़ियां बधी होती है जो एक ब्रेसलेट की तरह होता है इस पट्टे को स्ट्रैप कहा जाता है इस पट्टे को चारों तरफ से बांधा जाता है और कोने पर लांक दिया जाता है

इस प्रकार की घड़ी हाथों पर बांधी जाती है इस घड़ी की शुरुआत तब हुई जब एक विद्बान को लगा कि उसकी घड़ी सब की तरह जेब में नहीं बल्कि हाथों में होनी चाहिए

उसने एक रस्सी वाली और घड़ी को अपने हाथों में बांध लिया विद्बान के मित्रों ने उस समय उसका मजाक उड़ाया लेकिन यह एक नया अविष्कार था आज हम सभी हदों में घड़ियों को बांध के चलते हैं लेकिन उसका लोगों ने मजाक उड़ाया बाद में उन लोगों ने हाथों में बांध के चले

सर्वप्रथम घड़ी का अविष्कार किसने किया था

घड़ी का आविष्कार किसने किया घड़ी का आविष्कार Peter Henlein ने किया था घड़ी का आविष्कार विश्व में सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण अविष्कारों में से एक माना जाता है वैसे तो इस स्मार्टफोन स्मार्ट वॉच बाजार में आ जाने से अब लोगों को घड़ियों का इतना शौक नहीं रहा जितना कि पहले हुआ करता था

लेकिन अगर घड़ी का आविष्कार ना होता तो शायद हम सही टाइम का पता कर पाते और दुनिया आज स्तर पर विकसित है उतनी नहीं होते घड़ी के अविष्कार का श्रेय किसी एक व्यक्ति को नहीं जाता 

जब विश्व की विभिन्न सभ्यताएं एक-दूसरे से जुड़ी हुई नहीं थी तब भी विद्वानों ने समय देखने के अपने अपने तरीके निकाल लिया था कुछ नहीं धूऔ. घड़ी बनाई तो कुछ ने जल घड़ी और कुछ नहीं आसमान के तारों को देख कर टाइम का अंदाजा लगा लेते थे और कुछ लोग ने सूर्य को देख कर अपना टाइम का ज्यादा लगा लेते थे

लेकिन अगर आप गूगल पर Who Invented Watch घड़ी का आविष्कार किसने किया सर्च करो तो Peter Henlein का नाम आता है पीटर हेनले वह आदमी है जिन्हें घड़ी के अविष्कार का सबसे अधिक श्रेय दिया जाता है

पीटर हेनले वह पहले आदमी थे जिन्होंने क्लॉक वॉच घड़ी का आविष्कार किया था पीटर हेनले के द्वारा बनाया गया यंत्र जिसे क्लॉक वॉच नाम दिया गया था बिल्कुल सही समय बीता था

पीटर की तकनीक का उपयोग करके उसके बाद और भी एडवांस घड़िया बनाई गई जो ज्यादा छोटी और बेहद खूबसूरत थी लेकिन अगर आप सोच रहे रहे हो पीटर हेनले के द्वारा घड़ी का आविष्कार करने से पहले लोगों को समय का पता नहीं चलता था तो यह गलत था

वैसे तो लोग सूर्य को देखकर समय का अंदाजा लगा लेते थे लेकिन सटीक समय जानने के लिए भी लोगों के पास तरीके थे भारत में करीब 5 जगहों पर जंतर मंतर जैसी जगह मौजूद थे जो बताते हैं कि उस समय के लोगों के पास भेज सही समय देखने का यंत्र था

घड़ी का आविष्कार का श्रेय पाप सिल्वेस्टर द्वितीय को भी जाता है जिन्होंने सन 996 इस दिन में ही एक ऐसा यंत्र तैयार कर लिया था जो सही समय बताता था सन 1288 मैं इंग्लैंड के घंटाघंरौ मैं घड़िया लगाना शुरू कर दी गई थी घड़ी की मिनट वाली सुई का अविष्कार स्विजेरलैंड के जोश बरगरी ने किया था


हाथ में पहनने वाली घड़ी यानी कि रिस्ट वॉच का अविष्कार केलकुलेटर करने वाले महान वैज्ञानिक ब्लेज पास्कल ने किया था यह वही आदमी थे जिन्होंने काम करते समय समय देखने के लिए घड़ी रस्सी से बाधकर उसने हाथ में बाधना शुरू किया था

घड़ी का आविष्कार कब हुआ

पीटर हेनले के द्वारा वॉच का अविष्कार करने से पहले लोगों ऐसे यंत्रों उपयोग कर रहे थे जी सटीक समय बताते थे टि्वटर इंग्लैंड में 1905 में क्लॉक वॉच का अविष्कार किया था पीटर हैनले के द्वारा वाच का अविष्कार के बाद से 1577 में स्विजेरलैंड मैं जास बर्गी ने मिनट की सुई वाली घड़ी का आविष्कार किया था

इसके बाद पाकिट वॉच का अविष्कार हुआ और 1650 के आसपास लोग अपनी जेबों में घरिया लेकर घूमा करते थे इसके बाद साल 1988 में Steve Mann ने लिंनक्स स्मार्ट वॉच का आविष्कार किया जो सेल सर चलती थी बता दे कि स्टीक को वियरेबल कंप्यूटर का जन्म भी कहा जाता है

Mechanical घड़ी का आविष्कार किसने और कब किया था


घड़ी का आविष्कार 1725 में चीन के आइसिंग व लियाग मैं किया गया था

घड़ी का महत्त्व

किसी भी गाड़ी का उपयोग सटीक समय से आकलन के लिए किया जाता है आज हमारे पास लगभग समय देखने के लिए कई प्रकार के उपकरण है जैसे स्मार्ट वॉच मोबाइल फोन इत्यादि

उपकरण तो आज से सदियों पहले के लोगों के पास नहीं थे लेकिन वह सटीक समय नहीं बता पाते थे उन्हें यह तो पता लग जाता था कि अभी समय क्या है लेकिन जितना सटीक समय हमें पता रहता है

उतनी जानकारी उन्हें नहीं पता रहता था क्योंकि उनके पास समय देखने का कोई विधि नहीं था वह लोग समय को सूर्य के हिसाब से देखा करते थे

वैसे भी इंसान का यह फितरत रहता है कि वह प्राकृत से ज्यादा मशीनों पर भरोसा करता है क्योंकि मशीन है बिल्कुल सटीक काम करने में सक्षम होती है

यही कारण है कि घड़ी का आविष्कार एक महत्वपूर्ण आविष्कार में माना जाता है घड़ी का आविष्कार कौन अविष्कारों में से एक है जो काफी तेजी से दुनिया में फैला है

निष्कर्ष

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular